HomePolticalमोदी झूठ बोलकर वोट पा लेते हैं : खरगे

मोदी झूठ बोलकर वोट पा लेते हैं : खरगे

नई दिल्ली। झारखंड के रांची में रविवार को इंडिया गठबंधन की हुई उलगुलान न्याय महारैली में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि भ्रष्टाचार खत्म करने की बात करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भ्रष्ट लोगों को अपनी गोद में बैठा रहे हैं। उमड़े विशाल जनसैलाब से कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा मोदी भ्रष्‍टाचारियों को नहीं छोड़ने की बात कर रहे हैं। मगर मोदी भ्रष्ट लोगों को अपनी गोद में बैठा रहे हैं।

भाजपा को चंदा देने वाले 23 लोगों पर ईडी, सीबीआई और आयकर विभाग की जांच बंद हो गई। मोदी भ्रष्ट लोगों से चंदा लेकर उनको धंधा भी देते हैं और ऊपर से उनको गोद में भी बैठा लेते हैं। मोदी सरकार ने इंडिया गठबंधन के दो मुख्यमंत्रियों को गिरफ्तार कर लिया। उनके ऊपर दबाव था कि अगर वह इंडिया गठबंधन से जुड़ेंगे तो उन्हें जेल में डाल दिया जाएगा।

हेमंत सोरेन जी हिम्मत वाले हैं, जिन्होंने कहा कि मुझे जेल जाना मंज़ूर है, लेकिन गठबंधन नहीं छोड़ूंगा।खरगे ने कहा कि मोदी संविधान को बदलना चाहते हैं।देश में लोकतंत्र और संविधान खत्म हो गया, तो जनता के पास कुछ नहीं बचेगा। बाबा साहेब अंबेडकर जी और जवाहरलाल नेहरू जी ने सभी को वोट का समान अधिकार दिलाया, जिससे सभी वर्गों को सम्मान मिला। लेकिन नरेंद्र मोदी गरीबों से उनके अधिकार छीनना चाहते हैं। इंडिया गठबंधन बहुत मजबूत है। नरेंद्र मोदी हमें डराना चाहते हैं, लेकिन हम इनसे नहीं डरने वाले। हम सिर्फ जनता से डरते हैं। क्योंकि जनता इस देश की, लोकतंत्र और संविधान की रक्षक है।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नरेंद्र मोदी कहते हैं कि मैं लोगों के लिए जो काम कर रहा हूं, वो बस ट्रेलर है। अगर ट्रेलर में ही इतनी समस्याएं हैं तो फिल्म कैसी होगी। आज महंगाई चरम पर है। 45 साल में सबसे अधिक बेरोजगारी है। गरीब और गरीब बनता जा रहा है। मोदी झूठों के सरदार हैं। मोदी झूठ बोलकर वोट लेते हैं, फिर लोगों को तंग और तबाह कर देते हैं। मोदी 400 पार की बात कर रहे हैं। जमीनी रिपोर्ट्स के अनुसार अब भाजपा 150-180 सीटों के आसपास है। खरगे ने कहा कि नरेंद्र मोदी कहते हैं कि उन्होंने दलित और आदिवासी वर्ग के लोगों को देश का राष्ट्रपति बनाया। लेकिन नरेंद्र मोदी ने दलित और आदिवासी समाज के कल्याण और स्वाभिमान के लिए नहीं, बल्कि अपने वोट बैंक के लिए उन्हें राष्ट्रपति बनाया है। राम मंदिर के उद्घाटन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नहीं बुलाया गया। संसद भवन के उद्घाटन में भी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को नहीं बुलाया। ये राष्ट्रपति का अपमान है। ये आदिवासियों का अपमान है। कांग्रेस अध्यक्ष ने कांग्रेस पार्टी के आदिवासी संकल्प को दोहराते हुए कहा कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर वन अधिकार अधिनियम (एफआरए) के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए एक राष्ट्रीय मिशन स्थापित किया जाएगा। एक स्पेशल बजट रखा जाएगा और विशेष कार्य योजना तैयार की जाएगी। एक वर्ष के भीतर सभी लंबित एफआरए क्लेम्स का निपटान सुनिश्चित करेंगे। हम छह महीने के अंदर सभी अस्वीकृत क्लेम्स की समीक्षा के लिए एक प्रक्रिया स्थापित करेंगे। कांग्रेस मोदी सरकार द्वारा वन संरक्षण और भूमि अधिग्रहण अधिनियमों में किए गए सभी संशोधनों को वापस लेगी। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की जिन बस्तियों में अनुसूचित जनजाति (एसटी ) की आबादी ज्यादा है, उन बस्तियों को अनुसूचित क्षेत्र घोषित करने के लिए कांग्रेस प्रतिबद्ध है। कांग्रेस पेसा कानून के अनुसार राज्यों में कानून बनाने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि ग्राम सरकार और स्वायत्त जिला सरकार की स्थापना हो सके। कांग्रेस पार्टी एमएसपी का अधिकार कानून लाएगी, जिसमें लघु वन उपज को भी कवर किया जाएगा। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस घोषणा पत्र में किए अन्य वादे दोहराते हुए इंडिया गठबंधन के उम्मीदवारों को जिताने का आह्वान किया। महारैली में झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन, मुख्यमंत्री चंपई सोरेन, मुख्यमंत्री भगवंत मान, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, कल्पना सोरेन, फारूक अब्दुल्ला, सुनीता केजरीवाल, संजय सिंह, दीपांकर भट्टाचार्य, प्रियंका चतुर्वेदी, गुलाम अहमद मीर, आलमगीर आलम, राजेश ठाकुर समेत इंडिया गठबंधन के अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments